Monday, 24 June 2024
Trending
देश दुनिया

Unraveling the Secrets: सूर्य और चंद्र ग्रहणों की तारीख और सटीक समय की पहले से भविष्यवाणी कैसे कर लेते हैं लोग

Solar Eclipse, सूर्य ग्रहण कैसे काम करता है?, सूर्य ग्रहण 2024, दुर्लभ पूर्ण सूर्य ग्रहण आज उत्तरी अमेरिका में छाया रहेगा, डिटेल्स यहां देखें

सूर्य और चंद्र ग्रहण के बारे में तो आप जानते ही हैं. हर कोई जानता है कि सूर्य ग्रहण कब लगने वाला है और इसे देखने की तैयारी भी करते है। सूर्य या चंद्र ग्रहण की तिथि और समय की सटीक जानकारी कैसे होगा ये पहले से पता चल जाएगा ? वर्ष के दौरान जितने भी ग्रह घटित होंगे उनकी तारीख और समय के अलावा वे किस देश में प्रकट होंगे इसकी भी पहले से जानकारी होती है, क्या आप जानते हैं कि यह जानकारी कैसे मिलेगी?

प्राचीनकाल के बेबिलोनना खगोलविदों ने पता लगाया कि चंद्र ग्रहण और सूर्य ग्रहण विशिष्ट समय पर होते हैं। दो ग्रहणों के बीच का अंतराल 18 वर्ष 11 दिन और 8 घंटे का होता है। यदि आज भारत में सूर्य ग्रहण दिखाई देता है, तो उसी पीरियड का एक समान सूर्य ग्रहण भारत में 18 साल, 12 दिन और 8 घंटे के बाद देखा जाएगा, इसलिए प्रत्येक ग्रहण की तारीख और समय 18 साल पहले तय किया जाता है। पंचांग में ग्रहणों की गणना इस प्रकार की जाती है, यह समय को ‘Saros cycle‘ कहते हैं।

प्राचीन काल में ग्रहणों का धार्मिक महत्व होता था इसलिए खगोलशास्त्रियों ने ग्रहणों का गहराई से अध्ययन किया। ग्रहण तब घटित होता है जब पृथ्वी सूर्य के चारों ओर घूमती है और चंद्रमा एक निश्चित स्थिति में पृथ्वी के चारों ओर घूमता है।

खगोलशास्त्री एक चंद्र मास को 29.53 दिन का मानते हैं। पृथ्वी सूर्य के चारों ओर 365 दिनों में एक चक्कर लगाती है लेकिन चूंकि चंद्रमा भी चक्कर लगाता है, इसलिए चंद्रमा के उत्तर से शुरू करके सूर्य का रास्ता पूरा करने में उसे 346.55 दिन लगते हैं, इस अवधि को Draconic Year कहा जाता है। चंद्रमा की वास्तविक प्रदक्षिणा पथ 27.55 दिन का है,

इसलिए सूर्य, चंद्रमा और पृथ्वी की जो आज स्तिथि हैं वो स्थिति 18 वर्ष 21 दिन 8 घंटे पर फिर से दिखाई देती है। इसीलिए उसी टाइम पें बार-बार ग्रहण होते हैं। हालाँकि, हर तीन ‘Saros cycle’ के बाद टाइम थोड़ा बदल जाता है।

Solar Eclipse 2024: भारत में सूर्य ग्रहण कितने बजे है?


2024 का पहला सूर्य ग्रहण चैत्र नवरात्रि के हिंदू त्योहार से पहले 8 अप्रैल को लगने वाला है। ग्रहण भारतीय मानक समयानुसार रात 09:12 बजे शुरू होगा और 9 अप्रैल को सुबह 2:22 बजे तक जारी रहेगा। सूर्य ग्रहण भारत में नहीं देखा जाएगा।

Image courtesy: NASA/instagram

जानिए कैसे होता है सूर्य ग्रहण?


सूर्य ग्रहण तब होता है जब चंद्रमा सूर्य और पृथ्वी के बीच से गुजरता है, जिससे पृथ्वी के कुछ हिस्सों पर छाया पड़ती है और उन स्थानों पर रहते लोगो को सूर्य दिखाई नहीं देता और इसलिए इसे सूर्य ग्रहण कहते हैं।
Image courtesy:NASA’s Goddard Space Flight Center

Other News :


Become a Trendsetter With DailyLiveKhabar

Newsletter

Streamline your news consumption with Dailylivekhabar's Daily Digest, your go-to source for the latest updates.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *