Tuesday, 18 June 2024
Trending
बिज़नेस

Reliance Jio IPO likely to happen in 2025 

रिलायंस जियो 2025 में अपनी प्रारंभिक सार्वजनिक पेशकश इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग (IPO) का अनावरण करने के लिए तैयार है। विश्लेषकों को KKR , PIF, Silver Lake, L Catterton and TPG जैसी वैश्विक निजी equity (PE) फर्मों के संभावित निकास के बाद आईपीओ लॉन्च की उम्मीद है, जिन्होंने निवेश किया था 2020 में Jio में। इसके अतिरिक्त, ऐसी अटकलें हैं कि टेल्को आगामी आम चुनावों के बाद अपनी योजनाओं पर 20% मूल्य वृद्धि लागू करेगा। इस रणनीतिक पैंतरेबाज़ी का उद्देश्य आईपीओ की प्रत्याशा में कंपनी के राजस्व और मूल्यांकन को बढ़ाना है।

रिलायंस जियो की मौजूदा वैल्यूएशन करीब 75 अरब डॉलर है

अमेरिकी ब्रोकरेज जेफरीज के अनुमान के मुताबिक, रिलायंस जियो की वैल्यू इस समय करीब 75 अरब डॉलर है।

जेफ़रीज़ ने वित्तीय वर्ष 2024 से 2026 तक ऑपरेटिंग आय (EBITDA) में 25% की चक्रवृद्धि वार्षिक वृद्धि दर का अनुमान लगाया है, जो 9.7 बिलियन डॉलर तक पहुंच जाएगी। हालाँकि, यह वृद्धि अनुमान Q2 FY25 में 20% टैरिफ बढ़ोतरी पर निर्भर है।

प्रत्याशित टैरिफ अड़जस्टमेंट्स के अभाव में, जेफ़रीज़ ने चेतावनी दी है कि Jio का EBITDA 22% की गिरावट के साथ $7.6 बिलियन हो सकता है, जिससे संभावित रूप से लिस्टिंग के समय इसके मूल्यांकन पर काफी असर पड़ सकता है।

जियो की ARPU ग्रोथ रुकी हुई है

Jio का Q3FY24 औसत रेवेनुए प्रति यूजर (ARPU) रुपये पर स्थिर रहा। Jioभारत फोन अपनाने के हाई एडॉप्शन रेश्यो (low ARPU) और मुफ्त 5जी डेटा के कारण 4जी टॉप-अप डेटा पैक की कीमत 181.70 रुपये है।

आने वाली क्वाटर्स में ARPU बढ़ाने के लिए, विश्लेषकों का सुझाव है कि Jio को जल्दी से समग्र टैरिफ में बढ़ोतरी करनी चाहिए, अपनी अनलिमिटेड 5G डेटा योजनाओं को वापस लेना चाहिए और 5G सेवाओं की कीमत 4G दरों से अधिक रखनी चाहिए।

Jio 5G सेवाओं और AirFiber कनेक्टिविटी में अपने निवेश का मोनेटाइज करने को प्राथमिकता देता है।

अपने 5G नेटवर्क की राष्ट्रव्यापी तैनाती और 90 मिलियन 5G ग्राहकों के अधिग्रहण के बाद, Jio अपनी 5G पेशकशों का लाभ उठाने के लिए कमर कस रहा है।

वर्तमान में, यह बिना किसी शुल्क के असीमित 5G इंटरनेट एक्सेस प्रदान करता है। उम्मीद है कि टेल्को इस साल के अंत में अपनी 5जी सदस्यता योजना पेश करेगी।

इसके अलावा, Jio का लक्ष्य अपने एंटरप्राइज़ समाधानों को बढ़ाना और 5G-संचालित फिक्स्ड वायरलेस एक्सेस सेवा JioAirFiber का विस्तार करना है।

उद्योग विश्लेषकों का अनुमान है कि JioAirFiber सेवाएँ संभावित रूप से $4 से $9 बिलियन तक वार्षिक राजस्व उत्पन्न कर सकती हैं, बशर्ते यह 50 से 100 मिलियन घरों तक पहुँचे।

रिलायंस जियो में हिस्सेदारी किसकी है?

मुकेश अंबानी की अगुवाई वाली रिलायंस इंडस्ट्रीज की Jio प्लेटफ़ॉर्म लिमिटेड (JPL) में 67% हिस्सेदारी है, जो रिलायंस की दूरसंचार और डिजिटल संपत्ति को नियंत्रित करती है।

शेष 33% में से 18% हिस्सेदारी मेटा और गूगल के पास है, जबकि पीई निवेशक सामूहिक रूप से शेष 15% के मालिक हैं।

Read more

Become a Trendsetter With DailyLiveKhabar

Newsletter

Streamline your news consumption with Dailylivekhabar's Daily Digest, your go-to source for the latest updates.

2 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

बिज़नेस

भारतीय कार मैन्युफैक्चरिंग कंपनियों की तुलना: टाटा मोटर्स से मारुति सुजुकी तक

Worth reading...