Tuesday, 25 June 2024
Trending
देश दुनिया

PM Modi ने 2022 में यूक्रेन में ‘संभावित परमाणु हमले’ को रोकने में मदद की : Report

image courtesy: x/@narendramodi

समाचार एजेंसी ANI ने रविवार को CNN रिपोर्ट का हवाला देते हुए बताया कि प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी और कुछ अन्य देशों ने रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से संपर्क करके 2022 में यूक्रेन पर ‘संभावित परमाणु हमले’ को रोकने में मदद की।

रिपोर्ट में कहा गया है कि भारतीय प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी और चीन जैसे देशों के हस्तक्षेप ने पुतिन को परमाणु योजनाएं छोड़ने के लिए मजबूर किया होगा।

2022 में, अमेरिकी अधिकारी चिंतित हो गए कि यूक्रेन में बढ़ती चुनौतियों के सामने रूस टैक्टिकल परमाणु हथियार का उपयोग कर सकता है। यह तब था जब यूक्रेनी सेनाएँ दक्षिण में रूस के कब्जे वाले खेरसॉन पर आगे बढ़ रही थीं। रिपोर्ट के अनुसार, रूस को चिंता हो गई कि अगर यूक्रेनी सैनिक आगे बढ़ते रहे तो खेरसॉन में उसकी सेना को घेरा जा सकता है और तबाह किया जा सकता है।

रिपोर्ट के अनुसार, अन्य देशों के हस्तक्षेप के साथ-साथ व्लादिमीर पुतिन के साथ प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के डिप्लोमेटिक प्रयास संभावित परमाणु तबाही से बचने में महत्वपूर्ण थे।

अधिकारियों ने अमेरिका स्थित नेटवर्क को बताया कि जो बिडेन प्रशासन चिंतित था कि रूस यूक्रेन के युद्ध प्रयासों को घातक झटका देने के लिए टेक्टीकल परमाणु हथियारों का उपयोग कर सकता है।

CNN की रिपोर्ट के अनुसार, अमेरिकी अधिकारियों का कहना है कि चीनी नेता शी जिनपिंग और भारतीय प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के आउटरीच और सार्वजनिक बयानों से संकट को टालने में मदद मिली।प्रशासन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने इस बात पर जोर दिया कि उनकी रणनीति में न केवल संबंधित पक्षों के साथ सीधे संवाद करना शामिल है, बल्कि इस प्रयास में शामिल होने के लिए अन्य देशों, विशेष रूप से अधिक प्रभाव वाले देशों पर मजबूत दबाव और प्रोत्साहन भी शामिल है।

“मुझे लगता है कि हमारा मानना है कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय को इस बारे में चिंता दिखाना, विशेष रूप से रूस और ग्लोबल साउथ के लिए प्रमुख देशों की चिंता, एक सहायक, मोटिवेटिंग फैक्टर था और उन्हें दिखाया कि इस सब की कीमत क्या हो सकती है। मुझे लगता है कि तथ्य हम जानते हैं, भारत ने दबाव बढ़ाया, चीन ने दबाव बढ़ाया, दूसरों ने दबाव बढ़ाया, हो सकता है कि उनकी सोच पर कुछ प्रभाव पड़ा हो,” अधिकारी ने कहा।

उसी टाइम के दौरान, मॉस्को की ओर से ऐसे दावे आए थे जिससे यह चिंता व्यक्त की गई थी कि यूक्रेन डर्टी बम का उपयोग कर सकता है।

Dirty Bomb क्या होता है?

यह एक बम है जिसमें यूरेनियम जैसे रेडियोएक्टिव पदार्थ होते हैं, जो पारंपरिक विस्फोटक के विस्फोट होने पर हवा में बिखर जाते हैं।इसमें हाइली रिफाइंड रेडियोएक्टिव मटेरियल को शामिल करने की आवश्यकता नहीं है, जैसा कि परमाणु बम में उपयोग किया जाता है। इसके बजाय, यह अस्पतालों, परमाणु ऊर्जा स्टेशनों या रिसर्च लैबोरेट्रीज से रेडियोएक्टिव मटेरियल का उपयोग कर सकता है।

इससे उन्हें परमाणु हथियारों की तुलना में बनाना बहुत सस्ता और तेज हो जाता है। उदाहरण के लिए, इन्हें किसी भी वाहन के पीछे ले जाया जा सकता है।

दिलचस्प बात यह है कि यह सितंबर 2022 में था जब पिछले साल उज्बेकिस्तान में SCO शिखर सम्मेलन के मौके पर प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने एक बड़े बयान में राष्ट्रपति पुतिन से कहा था कि “This is not the era of War”

Become a Trendsetter With DailyLiveKhabar

Newsletter

Streamline your news consumption with Dailylivekhabar's Daily Digest, your go-to source for the latest updates.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *