Monday, 24 June 2024
Trending
टेक्नोलॉजी

इसरो का फैसला: हिंद महासागर की गहराई में निष्क्रिय किया गया हाई पावर सैटेलाइट

ISRO’s के प्रमुख उच्च-रिज़ॉल्यूशन इमेजिंग उपग्रह ने अपनी खगोलीय यात्रा पूरी कर ली है। 14 फरवरी, 2024 को पृथ्वी के वायुमंडल में इसके पुनः प्रवेश का गवाह बना। सावधानीपूर्वक नियंत्रण द्वारा निर्देशित, इसरो ने इसे हिंद महासागर की गहराई के नीचे अपने अंतिम विश्राम स्थल तक पहुंचाया। आदरणीय कार्टोसैट-2 उपग्रह की सेवानिवृत्ति भारतीय अंतरिक्ष प्रयासों में एक महत्वपूर्ण युग के समापन की शुरुआत है। 14 फरवरी, 2024 को पृथ्वी के वायुमंडल में इसकी मार्मिक वापसी देखी गई, जिसने इसके ऐतिहासिक परिचालन कार्यकाल को विराम दिया.

अत्यधिक सटीकता और उन्नत तकनीकी युक्तियों के साथ, उपग्रह ने अंतरिक्ष मलबे के न्यूनतम फैलाव को सुनिश्चित करने के लिए सावधानीपूर्वक मार्गदर्शन करते हुए समताप मंडल के विस्तार में अपनी यात्रा शुरू की, इस प्रकार सभी खगोलीय संस्थाओं और मानव हितों की सुरक्षा की गारंटी दी गई। 10 जनवरी के शानदार दिन पर कार्टोसैट-2 उपग्रह की तैनाती ने अंतरिक्ष अन्वेषण में एक नए युग की शुरुआत की, जो ब्रह्मांडीय क्षेत्र में ज्ञान और नवाचार की मानवता की निरंतर खोज को रेखांकित करता है.

जनवरी 2022 में मेरे आखिरी अपडेट के अनुसार, “हिंद महासागर” नाम का कोई विशिष्ट इसरो मिशन नहीं था। हालाँकि, यह संभव है कि इसरो ने तब से नए मिशनों या परियोजनाओं की घोषणा या शुरुआत की हो।

अंग्रेजी में “हिन्द महासागर” का अनुवाद “हिन्द महासागर” होता है। इसरो विभिन्न उपग्रह प्रक्षेपणों और मिशनों में शामिल रहा है जिनकी हिंद महासागर क्षेत्र के लिए प्रासंगिकता है। इन मिशनों में संचार, रिमोट सेंसिंग, मौसम विज्ञान और समुद्र विज्ञान के उपग्रह शामिल हैं, जिनका हिंद महासागर में मौसम के पैटर्न, समुद्र की सतह के तापमान, समुद्री धाराओं और अन्य पर्यावरणीय कारकों की निगरानी के लिए अनुप्रयोग हैं।

इसरो की परियोजनाओं और मिशनों के बारे में नवीनतम और सटीक जानकारी के लिए, मैं आधिकारिक इसरो वेबसाइट पर जाने या विश्वसनीय स्रोतों से हाल के समाचार अपडेट का संदर्भ लेने की सलाह देता हूं।

वैज्ञानिकों और इंजीनियरों के लिए तकनीकी दस्तावेज़, छात्रों के लिए शैक्षिक सामग्री और आम दर्शकों को शामिल करने के लिए सार्वजनिक आउटरीच सामग्री तैयार कर सकते हैं।

जबकि इसरो की सामग्री का प्राथमिक फोकस सुसंगत रहता है, विशिष्ट विवरण, मिशन अपडेट और नए विकास समय के साथ भिन्न हो सकते हैं क्योंकि संगठन अपने अंतरिक्ष अन्वेषण और अनुसंधान प्रयासों को जारी रखता है। सबसे ताज़ा और सटीक जानकारी के लिए, सीधे इसरो की आधिकारिक वेबसाइट या अधिकृत संचार चैनलों को देखना सबसे अच्छा है।

इन्सैट-3डीएस उपग्रह को ले जाने वाले जियोसिंक्रोनस सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल (जीएसएलवी) के आगामी प्रक्षेपण ने इसके उतार-चढ़ाव वाले इतिहास के बावजूद प्रत्याशा को बढ़ा दिया है। अपने घटिया प्रदर्शन के कारण भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के एक पूर्व अध्यक्ष द्वारा “शरारती लड़के” के रूप में संदर्भित, जीएसएलवी को अपने 15 मिशनों में से छह में असफलताओं का सामना करना पड़ा है, जिससे विफलता दर 40 प्रतिशत हो गई है।

इसके विपरीत, इसके मजबूत समकक्ष, लॉन्च व्हीकल मार्क-3 या ‘बाहुबली रॉकेट’ ने अपनी सभी सात उड़ानों में त्रुटिहीन सफलता हासिल की है। इसी तरह, ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान (पीएसएलवी), जो इसरो का भरोसेमंद हथियार है, प्रभावशाली 95 प्रतिशत सफलता दर का दावा करता है, अब तक 60 प्रक्षेपणों में से केवल तीन विफलताएं हैं।

51.7 मीटर लंबाई वाला, जीएसएलवी एक तीन चरणों वाला रॉकेट है, जो स्टैच्यू ऑफ यूनिटी की ऊंचाई 182 मीटर की लगभग एक चौथाई है। 420 टन के भार के साथ, जीएसएलवी एक स्वदेशी क्रायोजेनिक इंजन का उपयोग करता है। इसरो ने अपने लॉन्च वाहन पोर्टफोलियो में एक बदलाव को चिह्नित करते हुए, कुछ और मिशनों के बाद जीएसएलवी को रिटायर करने की योजना की रूपरेखा तैयार की है।

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को महत्वाकांक्षी योजनाओं का अनावरण किया, जिसमें वैज्ञानिकों से शुक्र और मंगल ग्रह सहित हमारे सौर मंडल की बाहरी पहुंच का पता लगाने के लिए मिशन शुरू करने का आग्रह किया गया।उल्लेखनीय उपलब्धियों की श्रृंखला में, भारत ने अगस्त में चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव के अज्ञात भूभाग पर सफलतापूर्वक एक अंतरिक्ष यान उतारकर इतिहास रचा। ठीक एक महीने बाद, सितंबर में, राष्ट्र ने सूर्य की जटिल गतिशीलता का अध्ययन करने के लिए समर्पित एक अभूतपूर्व रॉकेट मिशन लॉन्च किया।

अपने अन्य अग्रणी प्रयासों में, भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) गगनयान परियोजना को परिश्रमपूर्वक आगे बढ़ा रहा है। इस अभूतपूर्व पहल का उद्देश्य मानव दल को 400 किमी (लगभग 248 मील) की ऊंचाई पर नेविगेट करते हुए कक्षा में ले जाना है, जिसका अंतिम लक्ष्य उन्हें सुरक्षित रूप से भारतीय जल में वापस लाना है। इस मिशन के लिए एक महत्वपूर्ण परीक्षण इस शनिवार को होने वाला है, जो भारत की अंतरिक्ष अन्वेषण यात्रा में एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर है।

इस महत्वपूर्ण परीक्षण के बाद, इसरो एक और प्रायोगिक उड़ान आयोजित करने के लिए तैयार है, इस बार बाहरी अंतरिक्ष की गहराई में एक रोबोट एक्सप्लोरर को तैनात किया जाएगा। ये प्रारंभिक मिशन अंतिम उद्देश्य को साकार करने की दिशा में महत्वपूर्ण कदम हैं: 2024 की समाप्ति से पहले अंतरिक्ष में एक मानवयुक्त मिशन भेजना।

Become a Trendsetter With DailyLiveKhabar

Newsletter

Streamline your news consumption with Dailylivekhabar's Daily Digest, your go-to source for the latest updates.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *