Wednesday, 24 July 2024
Trending
सेलिब्रिटी

ऐतिहासिक श्रद्धांजलि: NASA के प्राइवेट IM-1 मिशन से चंद्रमा पर भेजा गया प्रमुख स्वामी महाराज का संदेश

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा का प्राइवेट स्पेसक्राफ्ट Odysseus वर्तमान में चंद्रमा के रास्ते पर BAPS स्वामीनारायण संस्था के पांचवें गुरु प्रमुखस्वामी महाराज को एक अद्भुत श्रद्धांजलि दे रहा है। NASA हिंदू धर्म गुरु प्रमुखस्वामी महाराज की तस्वीरें और उनका संदेश चंद्रमा पर भेज रहा है। इसके लिए प्राइवेट स्पेसक्राफ्ट ओडीसियस की सतह पर सापेक्ष विकिरण द्वारा प्रमुचस्वामी महाराज और उनके कार्यों के चित्र बनाये गए हैं। NASA के IM-1 mission के तहत स्पेसक्राफ्ट 22 फरवरी को चंद्रमा की सतह पर सॉफ्ट लैंडिंग करेगा।

डिस्क में लिखा है, “दूसरों की ख़ुशी में ही हमारी ख़ुशी बसती है। ‘दूसरों के कल्याण में, हमारा अपना जीवन भी वैसा ही रहता है’ – इसी जीवन-रेखा के साथ हमारे समय के सार्वभौमिक आध्यात्मिक नेता और महान संत, परम पावन प्रमुख स्वामी महाराज (1921-2016) ने अपना पूरा जीवन इंसानियत के उत्थान लिए समर्पित कर दिया…’

प्रमुख स्वामी महाराज द्वारा प्रचलित मूल्यों की शिक्षाओं और सार्वभौमिकता का स्मरण करते हुए, Intuitive Machines ने लैंडिंग से पहले X पर संदेश साझा किया:

‘Intuitive Machines और Relative Dynamics Inc. के समन्वय से बनाया गया, IM-1 मिशन BAPS स्वामीनारायण संगठन के पांचवें गुरु, परम पावन प्रमुख स्वामी महाराज को एक शाश्वत श्रद्धांजलि देगा। यह नक्काशी एक हिंदू आध्यात्मिक नेता, प्रमुख स्वामी महाराज के जीवन और सेवा का सम्मान करती है, जिन्होंने निस्वार्थ सेवा के सार्वभौमिक मानवीय मूल्य की वकालत की। राष्ट्रों और कॉर्पोरेशन्स के बीच इस तरह का सांस्कृतिक जुड़ाव स्पेस एक्सप्लोरेशन की खोज में साझा मूल्यों, प्रयासों और जिम्मेदारियों के विकास की अनुमति देता है।’

अहमदाबाद में प्रमुख स्वामी के शताब्दी समारोह के दौरान वर्तमान आध्यात्मिक नेता महंत स्वामी द्वारा डिस्क को आशीर्वाद दिया गया था।

ओडीसियस अंतरिक्ष यान 22 फरवरी को चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव के पास सॉफ्ट लैंडिंग का प्रयास करेगा। अमेरिकी अंतरिक्ष मिशनों के 50 से अधिक वर्षों के इतिहास में ऐसा करने वाला यह पहला अमेरिकी मिशन होगा। यह IM-1 लैंडर से लैस है। लैंडर चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव की सतह का पता लगाएगा। Commercial Lunar Payload Service (CLPS) mission के हिस्से के रूप में लैंडर 6 payloads का एक सूट ले जाता है। इसने चंद्रमा की सतह पर प्लाज्मा वातावरण को मापने और भविष्य के आर्टेमिस astronuts के लिए डेटा एकत्र करने के लिए साइंटिफिक इंस्ट्रूमेंट्स भेजे।

प्रमुखस्वामी महाराज एक आध्यात्मिक गुरु थे। वह BAPS के पांचवें गुरु थे। 7 दिसंबर, 1921 को गुजरात राज्य में जन्मे प्रमुख स्वामी महाराज BAPS संगठन में एक प्रमुख व्यक्ति बन गए। प्रमुखस्वामी महाराज ने भारत और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर BAPS के विकास और प्रगति में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उन्होंने हिंदू धर्म के सिद्धांतों और स्वामीनारायण संप्रदाय की आध्यात्मिक शिक्षाओं का प्रचार किया। उनके नेतृत्व में शिक्षा, स्वास्थ्य सेवाओं, सामाजिक सेवाओं और मानवीय सेवाओं में BAPS गतिविधियों ने गति पकड़ी। प्रमुख स्वामी महाराज धार्मिक सद्भाव, सामुदायिक सेवा और परोपकार को बढ़ावा देने के अपने प्रयासों के लिए जाने जाते हैं।

प्रमुखस्वामी महाराज का वास्तविक नाम शांतिलाल पटेल था। उन्हें गुजरात और दिल्ली में अक्षरधाम मंदिर के निर्माण के लिए जाना जाता है। अपने जीवनकाल में उन्होंने 1,100 से अधिक स्वामीनारायण मंदिरों का निर्माण कराया। प्रमुख स्वामी महाराज का 13 अगस्त 2016 को 94 वर्ष की आयु में निधन हो गया।

Other News :


Become a Trendsetter With DailyLiveKhabar

Newsletter

Streamline your news consumption with Dailylivekhabar's Daily Digest, your go-to source for the latest updates.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *